टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शुक्रवार को रांची में खेले गए तीसरे वनडे मैच में अपना 41वां वनडे शतक जड़ा। ये उनका लगातार दूसरा वनडे शतक साबित हुआ लेकिन इस बार नागपुर वनडे की तरह भारतीय टीम को वो जिता नहीं सके। ऑस्ट्रेलिया के 313 रन की जवाब में भारतीय टीम 48.2 ओवर में 281 रन पर आउट हो गयी और इसी के साथ मेहमान ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम ने सीरीज में बढ़त के अंतर को कम कर दिया। अब भारतीय टीम 2-1 से आगे है। शतक को विजयी शतक में तब्दील ना कर पाने का मलाल विराट कोहली के चेहरे पर साफ नजर आया। उन्होंने मैच के बाद क्या कहा आइए जानते हैं। 

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हार के बाद विराट कोहली ने कहा कि ऐसे समय में आउट होना निराशाजनक रहा गेंदों और रन की बीच केवल 20 का अंतर था। कोहली की 41वीं वनडे शतकीय पारी में उन्होंने 16 चौके और एक छक्का लगाया। उन्होंने 95 गेंदों पर 123 रन की आकर्षक पारी खेली। विराट कोहली ने कहा, ‘पिच आसान नहीं थी, ऐसे में आपको खराब गेंद का फायदा उठाने के साथ जोखिम भी लेना था। अगर हमारे पांच की जगह तीन विकेट गिरे होते तो हमारे पास मौका होता। हर विकेट के साथ लक्ष्य मुश्किल होता गया। मेरे और विजय शंकर के आउट होने के बाद हमारे पास कोई मौका नहीं था।’ 

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने आगे कहा, ‘मुझे लगता है मैंने अपनी शैली में बल्लेबाजी की लेकिन मैं इस बात को लेकर निराश हूं कि ऐसे समय पर आउट हुआ जब बची हुई गेंद और रन के बीच 20 का फासला था।’ विराट कोहली की शानदार पारी ही वजह थी कि टीम इंडिया एक बेहद खराब शुरुआत के बावजूद ऑलआउट होने से पहले 281 रनों का स्कोर बनाने में सफल रहा। विराट कोहली ने मैच में 129.47 के स्ट्राइक रेट से बल्लेबाजी की।
इससे पहले विराट कोहली ने नागपुर वनडे मैच में 116 रनों की पारी खेली थी और उस मुकाबले में टीम इंडिया ने अंतिम ओवर में जाकर ऑस्ट्रेलिया को 8 रन से हराया था। अब इस पांच मैचों की वनडे सीरीज का चौथा मुकाबला मोहाली में रविवार को खेला जाएगा। दोनों टीमों को आराम का सिर्फ एक दिन मिला है।

Post A Comment: