ऋषिकेश। एम्स निष्कासित कर्मचारी संघर्ष मोर्चा का धरना 21 वे दिन भी जारी रहा एम्स में सेवारत सुनील खंडूरी का कहना है कि एम्स प्रशासन ने उनको भीख मांगने के लिए मजबूर कर दिया है और कल से वह अपनी पूरी टीम के साथ शहर शहर में जीवन यापन करने के लिए मदद की गुहार करेंगे मनोज बिष्ट का कहना है कि वह परिवार के ताना सुनकर मानसिक रूप से परेशान चल रहे हैं घर के पांच सदस्यों की जिम्मेदारी उनके कंधों पर थी जिसको की एम्स प्रशासन ने सड़क पर लाकर पटक दिया एम से निष्कासित दयाराम सैनी का कहना है कि उन्होंने पिछले महीने बहन की शादी करी और लाखों रुपए का कर्जा ले रखा है आप कर्ज को चुकाने के समय एम्स प्रशासन ने उनको रोड पर खड़ा कर दिया है कंचन एवं पूनम का कहना है क्यों जल्द से जल्द हमको बहाल किया जाए ताकि हम अपने पूरे परिवार की जिम्मेदारी को संभाल सकें नहीं तो पूरे परिवार के साथ हमें धरने पर क्रमिक अनशन पर बैठने वाले दीपक रियाल कंचन दयाराम सुनील खंडूरी सोनू शिवा सिंह पवन जैन दीपक  कुमार डबराल पापिन कुमार आकाश जोशी समर्थन देने वालों में राज्य आंदोलनकारी उत्तराखंड बेरोजगार संघ अटल सेना राइट टू हेल्थ उत्तराखंड आंदोलनकारी संयुक्त संघर्ष समिति पार्षद नगर निगम डी एस गुसाईं अरविंद हटवाल नवीन शर्मा उर्मिला डबराल विश्वेश्वरी बिष्ट अमित फर्सवान गीताराम उनियाल  पापिन कुमार पवन कुमार जैन विकास रावत पंकज सिंह चौहान दीपक गुसाईं दीपक कुमार डबराल आकाश जोशी आशुतोष डंगवाल सोनियाचंद पूनम नागेंद्र नेगी रविंद्र ज्योति शालिनी पूजा कठिन अजीत गैरोला रोहित चौबे अशोक कुमार सुमन अनीश आदि।

Post A Comment: