देश दुनिया के 28 देशों से 300 से अधिक प्रतिनिधियों ने किया प्रतिभाग
ऋषिकेश,15फरवरी। उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद द्वारा 13, 14 एवं 15 फरवरी को देश की साहसिक पर्यटन की राजधानी  ऋषिकेश में पी.टी.ए.टी.आर.टी.सी एंड एम. 2019 का आयोजन सफलता पूर्वक संपन्न हुआ. आयोजन के तीसरे दिन ट्रैवल मार्ट के  दौरान पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर ड ने कहा कि इस आयोजन का मुख्य उद्देश्य स्थानीय स्टेकहोल्डर्स को  वैश्विक पर्यटन  के मंच पर  स्थापित करने में  सहयोग प्रदान करना तथा  स्थानीय  अर्थव्यवस्था को  मजबूत करना है. इस अवसर पर ट्रैवल तथा एडवेंचर पर्यटन के इस वैश्विक मेले में 28 देशों के लगभग 300  प्रतिनिधियों  भाग  लिया. जिसमें  अमेरिका, थाईलैंड, कोरिया, जर्मनी, चीन, फ्रांस, स्पेन, कनाडा, यूक्रेन, तुर्की, आयरलैंड, यूनाइटेड किंग्डम, बुल्गारिया, ऑस्ट्रेलिया, इटली, रूस, पोलैंड और सिंगापुर  जैसे दुनिया के कुल 19 देशों के ट्रैवल एवं एडवेंचर पर्यटन क्षेत्र के अग्रणी 44 अंतर्राष्ट्रीय क्रेताओं, नेपाल, इंडोनेशिया, श्रीलंका, मलेशिया, म्यांमार और भारत के 47 विक्रेताओं और कतिपय विश्व प्रसिद्ध अंतरराष्ट्रीय वक्ताओं एवं डेलिगेट्स द्वारा भाग लिया गया. एक दिवसीय कॉन्फ्रेंस में पर्यटन क्षेत्र के 17 वक्ताओं ने सतत पर्यटन, समावेशी पर्यटन,  इको पर्यटन  तथा पर्यटन अर्थव्यवस्था से संबंधित कई ज्वलंत विषयों पर अपने प्रेरक विचार रखे. इस दौरान उत्तराखंड पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर पेसिफिक एशिया ट्रैवल एसोसिएशन के  डॉ मारियो हार्डी , एडवेंचर टू एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष कैप्टन स्वदेश कुमार ने संयुक्त रूप से
प्रेस को संबोधित करते हुये कहा कि इस आयोजन  का उद्देश्य सार्वजनिक तथा निजी क्षेत्र के बीच संबंधों को और मजबूत करना तथा नए विचारों को उत्प्रेरित करना है. उन्होंने कहा कि देश विदेश के गतिशील और विविधता पूर्ण  वक्ता समूहों को एक मंच पर  लाकर नए विचारों पर चर्चा करना, उनका विश्लेषण करना और निजी तथा सार्वजनिक क्षेत्र के बीच योजना निर्माण तथा उत्तरदाई यात्रा एवं पर्यटन उद्योग की स्थापना करना है.
उन्होंने कहा कि ऋषिकेश तथा उत्तराखंड में साहसिक पर्यटन के उज्जवल भविष्य को देखते हुए विदेशों से विक्रेता तथा क्रेता गण यहां पर पधारे हैं और यहां के सौंदर्य तथा पर्यटन संभावना को लेकर उनके बीच काफी सकारात्मक प्रतिक्रिया देखने को मिली है. इसके साथ ही उन्होंने उत्तराखंड पर्यटन का विशेष धन्यवाद एवं आभार प्रकट किया.
सचिव पर्यटन दिलीप जावलकर ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद द्वारा राज्य को एडवेंचर टूरिज्म के एक अग्रसर गंतव्य के रूप में स्थापित करने के उद्देश्य से इस आयोजन की मेजबानी की दावेदारी पेश की गई, जिसे पर्यटन मंत्रालय भारत सरकार तथा पैसिफिक एशिया ट्रैवल एसोसिएशन द्वारा मंजूर कर लिया गया. एडवेंचर ट्रैवल ऑपरेटर एसोसिएशन ऑफ इंडिया, जोकि साहसिक पर्यटन के क्षेत्र में देश की एक अग्रणी संस्था है, को इस आयोजन को सफल बनाने के उद्देश्य से 'नॉलेज पार्टनर' के रूप में चयनित किया गया है.
पाटा एडवेंचर ट्रैवल एंड रिस्पांसिबल टूरिज्म कॉन्फ्रेंस एंड मार्ट के आयोजन की मेजबानी के लिए ऋषिकेश का चयन पाटा के प्रतिनिधियों द्वारा स्वयं यहां का स्थानीय भ्रमण करने के उपरांत किया गया है. यह तथ्य किसी से छिपा हुआ नहीं है कि इस चयन के पीछे ऋषिकेश में एडवेंचर टूरिज्म की अपार संभावनाएं अंतर्निहित हैं. इस त्रिदिवसीय इवेंट में एक  ट्रैवल  टूरिज्म कॉन्फ्रेंस तथा  एकदिवसीय ट्रैवल मार्ट का आयोजन किया जाएगा. इसके अलावा नेटवर्किंग तथा नए संबंध स्थापित करने के उद्देश्य से देश विदेश से पधारे आगंतुकों के लिए चौरासी कुटिया स्थित बीटल्स आश्रम में हेरिटेज वॉक तथा शिवपुरी में रिवर राफ्टिंग का भी आयोजन किया गया.
एडवेंचर टूर ऑपरेटर एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष कैप्टन स्वदेश कुमार ने प्रेस को संबोधित करते हुए कहा कि साहसिक पर्यटन के लिए उत्तराखंड में सब कुछ मौजूद है मगर आवश्यकता इस बात की है कि देश विदेश आने वाले पर्यटकों के साथ विनम्रता पूर्ण आतिथ्य के साथ पेश आया जाए. इसके अतिरिक्त उन्होंने सुरक्षा नियमों का कड़ाई से अनुपालन, रेस्क्यू ऑपरेशन में दक्षता तथा साहसिक खेलों के लिए आवश्यक प्रशिक्षण पर बल दिया.
आज आयोजित ट्रैवल मार्ट के दौरान क्रेताओं एवम विक्रेताओं को आमने-सामने बैठकर एक दूसरे की व्यावसायिक आवश्यकताओं को व्यक्त करने, समझने तथा भुनाने का अवसर प्राप्त हुआ. संभावनाओं, नव अनुसंधान एवं नवाचार  आदि पर विस्तृत चर्चा की. आज ट्रैवल मार्ट के दौरान क्रेताओं एवम विक्रेताओं को आमने-सामने बैठकर एक दूसरे की व्यावसायिक आवश्यकताओं को व्यक्त करने, समझने तथा भुनाने का अवसर प्राप्त हुआ. ट्रैवल मार्ट के दौरान स्टॉल परिसर में बड़ी संख्या में मौजूद पर्यटन व्यवसायियों के बीच काफी उत्सुकता देखने को मिली जोकि ऋषिकेश तथा उत्तराखंड में साहसिक खेलों के लिए एक सकारात्मक संकेत है।
ज्ञातव्य है कि त्रिदिवसीय आयोजन के पहले दिन एक दिवसीय कॉन्फ्रेंस के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय वक्ताओं ने एडवेंचर तथा ट्रैवल की संभावनाओं, नव अनुसंधान एवं नवाचार  आदि पर विस्तृत चर्चा की।

Post A Comment: