कोलकाता। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा कि मेरी स्थिति शेख हसीना की तरह हो गई है। हम दोनों के दुख में कोई खास फर्क नहीं। उनके पास भी अब समय नहीं होता और मेरी भी स्थिति समान ही है। वह पब्लिशर एंड बुकसेलर गिल्ड की ओर से आयोजित तीन दिवसीय कोलकाता साहित्य महोत्सव के उद्घाटन के बाद लोगों को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर बतौर मुख्य अतिथि कवि शंख घोष व विशिष्ट अतिथि के रूप में साहित्यकार समरेश मजूमदार समेत दस देशों से आए साहित्यकार व लेखक उपस्थित थे।

तीन दिवसीय कोलकाता साहित्य महोत्सव में 10 देशों के साहित्यकार व लेखक हुए शामिल

उद्घाटन के बाद सभागार में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए प्रणब मुखर्जी ने कहा कि कुछ दिन पहले ही मैं 84 साल का हुआ हूं। लेकिन, मैं अब भी स्वस्थ हूं। राष्ट्रपति पद से मुक्त होने के बाद पिछले डे़ढ सालों में मैं देश के विभिन्न हिस्सों में लगभग दो लाख 63 हजार किलोमीटर की यात्रा कर चुका हूं।

भारत से बाहर केवल बांग्लादेश के चटगांव की यात्रा की है, जहां कवि शंख घोष ने बांग्लादेश पुस्तक मेले का उद्घाटन किया था। उस दिन मैंने बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना द्वारा लिखे एक लेख को प़़ढा और पाया कि हम दोनों के दुख में कोई खास फर्क नहीं था। बचपन के दिन और विश्वविद्यालय की यादें आज भी तरोताजा हैं।

खैर, बांग्लादेशी प्रधानमंत्री के जरिये उन्होंने अपने पलों को याद करते हुए कहा कि अगर सरकारी काम में न फंसता तो मुझे याद है कि मैं भी ऐसे पुस्तक मेलों का हिस्सा हुआ करता था। एक आम पाठक की तरह ही मैं भी पुस्तक मेले में आया करता था।

Post A Comment: