ऋषिकेश।  अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में स्पिक मैके संस्था की ओर से शास्त्रीय कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी गई। इस दौरान आध्यात्मिक प्रस्तुतियों पर श्रद्धालु मंत्रमुग्ध हो गए। स्पिक मैके संस्था के तत्वावधान में एम्स में आयोजित कार्यक्रम में अपने संदेश में संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने कहा कि मेडिकल के विद्यार्थियों के लिए पढ़ाई के साथ साथ शिक्षणेत्तर कार्यक्रमों का आयोजन भी जरूरी है,जिससे उन्हें मेडिकल जैसी कठिन पढ़ाई के लिए बेहतर माहौल मिल सके। निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो.रवि कांत ने कहा कि आध्यात्मिक कार्यक्रमों में प्रतिभाग कर सुकून की अनुभूति होती है। इस अवसर पर संस्था से जुड़ी महज तेरह साल की शास्त्रीय गायिका सूर्य गायत्री ने श्रंखलाबद्ध भजन प्रस्तुतियों से श्रोताओं की खूब तालियां बटोरी। उन्होंने श्रीराम चंद्र कृपालु भजमन हरण भवभय दारुणम भजन से आध्यात्मिक प्रस्तुतियों की शुरुआत की।  इस अवसर पर शास्त्रीय गायिका ने हनुमान चालीसा के साथ ही श्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम राधा का भी श्याम वो तो मीरा का भी श्याम आध्यात्मिक प्रस्तुति से माहौल को भक्तिमय बना दिया। इसके अलावा उन्होंने भगवान शिव स्तुति नागेंद्र हाराय त्रिलोचनाय... और जय राधा माधव जय कुंजबिहारी.. आदि शानदार भजन प्रस्तुतियां देकर श्रोताओं को भावविभोर कर दिया। कार्यक्रम में तबले पर प्रशांत, वाइलिन पर गणराज,मृदंग पर अनिल कुमार पीवी और अन्य वाद्य पर शैलेश ने शानदार संगत देकर कार्यक्रम को यादगार बना दिया। इस अवसर पर प्रोफेसर बीना रवि, नर्सिंग कॉलेज के डीन डा.सुरेश कुमार शर्मा, प्रो.लतिका मोहन, आयोजन समिति की डा.गीता नेगी, डा.संतोष कुमार, प्रसूना जैली, स्पिक मैके के स्थानीय समन्वयक अभिषेक अग्रवाल आदि मौजूद थे।

Post A Comment: