रुड़की। उत्तर प्रदेश की सीमा से सटे उत्तराखंड के हरिद्वार जिले के पांच गांवों में जहरीली शराब पीकर मरने वालों की संख्या 34 पहुंच गई है। प्रभावित गांवों से बीमारों का अस्पताल पहुंचने का सिलसिला शनिवार को भी जारी रहा। 48 से ज्यादा लोग अब भी अस्पतालों में भर्ती हैं। इनमें 33 की हालत गंभीर बताई जा रही है। इधर, इन गांवों में दूसरे दिन भी सन्नाटा पसरा रहा। इधर, सरकार ने मृतक आश्रितों को दो-दो लाख और घायलों को 50-50 हजार रुपये आर्थिक सहायता देने को एलान किया। इससे पहले कुछ सुबह आश्रितों ने मुआवजे की मांग को लेकर सुबह शव ले जाने से मना कर दिया था।

झबरेड़ा थाना क्षेत्र के बाल्लुपुर, जहाजगढ़, भलस्वागाज, बिंड और खरक गांव में गुरुवार शाम से जहरीली शराब से मरने वालों का सिलसिला शुरू हुआ, जो अब तक जारी है। इन गांवों के 34 लोगों की अभी तक मौत हो चुकी है। इन सभी ने बाल्लुपुर और बिंड गांव से कच्ची शराब खरीदी थी। इन दोनों ही गांवों में लंबे समय से कच्ची शराब का धंधा चल रहा था। पुलिस, प्रशासन और आबकारी विभाग के कारिंदे इस तरफ आंखें मूंदे रहे। इतनी बड़ी संख्या में मौत होने के बाद इन गांवों में जिम्मेदारों की कदमताल दिखी।

Post A Comment: