ताज़ा ख़बर

ऋषिकेश, 28 जनवरी। जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान नई टिहरी में "शिक्षण में मल्टीमीडिया का प्रयोग" विषय पर 5 दिवसीय प्रशिक्षण का शुभारंभ हुआ। जिसमें टिहरी जिले के सभी विकासखंडों के 50 प्रारंभिक शिक्षकों ने प्रतिभाग किया।
प्रशिक्षण का शुभारंभ डाइट प्राचार्य चेतन प्रसाद नौटियाल ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि वर्तमान समय में शिक्षकों को पढ़ाने के तरीकों पर नवाचार करते रहने चाहिए। नवाचार शिक्षण में मल्टीमीडिया का अच्छा प्रयोग किया जा सकता है।
प्रशिक्षण संयोजक सुधीर नौटियाल ने 5 दिनों तक चलने वाले कार्यक्रम की रूपरेखा बताई।
कार्यशाला के पहले दिन मल्टीमीडिया में ओपन सोर्स एप्पलीकेशन्स, सूचना संचार तकनीक आदि विषयों पर चर्चा की गई।
इस मौके पर वरिष्ठ प्रवक्ता अशोक सिंह सहित प्रमोद चमोली, सुशील कुमार, प्रवीण अरोड़ा, प्रकाशी सेमवाल, सुनील डंगवाल, भगवती प्रसाद, मधुबाला, पवन, राजेन्द्र चौहान आदि थे।
ऋषिकेश, 28 जनवरी। उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने आज बैराज स्थित अपने कैंप कार्यालय में आज नगर क्षेत्र के नगर निगम पार्षदों को 100 एलइडी स्ट्रीट लाइट  लाइट वितरित की।

शहरी क्षेत्र के वार्डों को रोशनी से जगमगाहट के लिए आज विधानसभा अध्यक्ष ने नगर निगम पार्षद शिव कुमार गौतम को 25 लाइट, रूपा देवी मंडल को 25 लाइट, राम अवतारी पवार को 20 लाइट, प्रभाकर शर्मा को 10 लाइट एवं मनीष बनवाल को 20 लाइट वितरित की।इस अवसर पर विधानसभाध्यक्ष ने कहा कि वह नगर एवं ग्रामीण क्षेत्रों में ज़रूरत के अनुसार से स्ट्रीट लाइट वितरित कर रहे हैं। अग्रवाल ने कहा कि स्ट्रीट लाइट के क्षेत्रों में लग जाने से लोगों को रात को आवागमन में सहूलियत होगी

इस अवसर पर ऋषिकेश मंडल अध्यक्ष  दिनेश सती, वीर भद्र मंडल अध्यक्ष अरविंद चौधरी, श्रीमती रीना शर्मा, सुमित पवार, जयंत शर्मा, सचिन अग्रवाल, सुमित सेटी सहित अन्य लोग उपस्थित थे।
23 जनवरी को विक्षिप्त महिला ने बच्ची को दिया था जन्म

ऋषिकेश 28 जनवरी( AKA)।चंद्रभागा नदी में संदिग्ध परिस्थिति मे एक नवजात बच्ची को कुत्तों द्वारा नोचे जाने पर चंद्रभागा  बस्ती में सनसनी फैल गई ।घाट चौकी   पुलिस प्रभारी उत्तम रमोला के अनुसार यह बच्ची एक विक्षिप्त  महिला ज्योति 35वर्ष  की है  जोकि त्रीवेणी घाट पर रैन बसेरे में निवास करती थी ,जो कि 7 महीने की गर्भवती भी थी ।कि  डिलीवरी 23 जनवरी को राजकीय चिकित्सालय में हुई थी। लेकिन बच्चे ने जन्म लेने के तुरंत बाद दम तोड़ दिया था ।जिसे उसके कथित पिता बजरंग को चिकित्सकों द्वारा  सोंप दिया गया था। पुलिस चौकी प्रभारी उत्तम रमोला ने बताया कि  विक्षिप्त महिला राजस्थान की रहने वाली है। जो कि कुछ महीनों से त्रिवेणी घाट पर ही रेन बसेरे में निवास कर रही थी, जिसका बच्चा मरने के बाद डॉक्टर ने उसके कथित पिता बजरंग को सौंप दिया था , जिसने उसे चंद्रभागा नदी में दबा दिया था। जिसे मंगलवार की सुबह कुत्ते ने निकाल लिया, और उसे खाने लगा। जिसकी लोगों ने  सूचना पुलिस को दी जिस ने मौके पर पहुंचकर नवजात शिशु को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम हेतु भेज दिया है।

हिमाचल की तर्ज पर निर्धारित हो मोटरयान टैक्स - मोर्चा     

◇हिमाचल सरकार वसूलती है मात्र 2.5 से 3 फ़ीसदी टैक्स 

◇उत्तराखंड में है 8-9-10 फ़ीसदी टैक्स

◇ उत्तराखंड में वसूला जाता है टैक्स पर टैक्स : मोर्चा

उत्तराखंड बना वाहन स्वामियों को लूटने वाला प्रदेश

  विकास नगर - मोर्चा कार्यालय में पत्रकारों से वार्ता करते हुए जन संघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि उत्तराखंड सरकार वर्तमान में वाहन पंजीकरण पर वाहन की  कीमत के हिसाब से टैक्स वसूलती है तथा इसी कड़ी में 5 लाख तक के वाहन की कीमत पर 8 फ़ीसदी, 5 लाख से 10 लाख तक के वाहन पर 9 फ़ीसदी  तथा 10 लाख से ऊपर  के वाहनों पर  10 फ़ीसदी टैक्स निर्धारित किया हुआ है, जबकि हिमाचल प्रदेश में वाहन की कीमत पर  1000 सीसी  से कम  वाले वाहनों पर 2.5 फ़ीसदी तथा 1000 सीसी से अधिक वाले वाहनों पर  3 फ़ीसदी टैक्स निर्धारण किया हुआ है। नेगी ने कहा कि  हैरानी की बात यह है कि  उत्तराखंड सरकार द्वारा वाहन स्वामियों से  जो टैक्स वसूला जाता है,  वो एक्स शोरूम प्राइस के हिसाब से वसूला जाता है, यानी वाहन की कीमत पर जी.एस.टी. सहित सभी कर वसूलने के बाद (एक्स शोरूम प्राइस होता है) वसूला जाता है | पूर्वर्ती  सरकार के समय वर्ष 2015 में  10 लाख तक की कीमत वाले वाहनों पर   6 फ़ीसदी तथा 10 लाख से ऊपर  वाले वाहनों पर  8 फ़ीसदी टैक्स निर्धारित था,  लेकिन वर्तमान सरकार ने  और ज्यादा  टैक्स बढ़ाने का काम किया है,  जोकि एक तरह से सरकारी लूट है। नेगी ने कहा कि  उत्तराखंड जैसे प्रदेश में  जहां प्रतिवर्ष ह जारों वाहन विक्रय होते हैं  तथा वहीं दूसरी ओर हिमाचल प्रदेश जैसे राज्य में जहां बहुत कम वाहनों की बिक्री होती है  लेकिन फिर भी  हिमाचल में जायज शुल्क लिया जाता है, बावजूद इसके उत्तराखंड  सरकार  लूट से  बाज नहीं आ रही है | मोर्चा शीघ्र ही इस लूट को बंद कराने के लिए शासन में दस्तक देगा |  पत्रकार वार्ता में-  विजय रामशर्मा, दिलबाग सिंह, मोहम्मद असद,  प्रवीण शर्मा पिन्नी आदि थे।
 (आज का आदित्य)28 जनवरी।  खुद की जान की बाजी लगाकर गुलदार के हमले से भाई की जान बचाने वाली उत्तराखंड की बहादुर बेटी राखी रावत को सामाजिक सरोकारों के लिए प्रतिबद्ध संस्था नई पहल नई सोच ने नयी दिल्ली में सम्मानित किया।
संस्था के संस्थापक और वरिष्ठ अधिवक्ता एवं समाज सेवी संजय दरमोड़ा राखी रावत एवं उनके पूरे  परिवार को दिल्ली में सम्मानित किया।
इस अवसर पर दरमोड़ा ने कहा पहाड़ की इस बहादुर बेटी ने अपनी बहादुरी से न केवल अपने छोटे भाई की जान बचाई बल्कि विश्व पटल पर उत्तराखंड का नाम रोशन किया। इस बच्ची को गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में महामहिम राष्ट्रपति भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
आज राखी रावत को सम्मानित करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ।यह निश्चित तौर हमारे लिए यह गर्व की बात है।
  संजय शर्मा दरमोडा ने कहा कि हमें अपने बहादुर बच्चों पर गर्व है। हम ने निर्णय लिया है कि इस वर्ष अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का शुभारंभ इस वीर बालिका को सम्मानित कर किया जाएगा।
इस मौके पर मौजूद राखी के माता जी ने कहा कि राखी ने उन्हें एक नई पहचान दिलाई है। हमने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि हमारी बेटी को एक दिन इतना सम्मान मिलेगा। हम आदरणीय संजय दरमोड़ा एवं नई पहल नई सोच के सभी कार्यकर्ताओं का आभार प्रकट करते है कि आप सब ने हमें इतना सम्मान दिया।
इस मौके पर सामाजिक कार्यकर्ता मीना कंडवाल,विजय लक्ष्मी शर्मा,राकेश रावत, संजय नौढियाल,संजय चौहान,प्रभा बिष्ट, मंजु भदौला,सोनु वर्मा गिरीश सहित कई गणमान्य लोग मौजूद थे।
आपको बता दें कि पौड़ी गढ़वाल के बीरोंखाल ब्लॉक के देव कुंडई गाँव निवासी राखी रावत पुत्री दलवीर सिंह रावत चार अक्टूबर 2019 को अपने चार साल के भाई राघव और मां के साथ खेत में गई थी। खेत से घर लौटते समय गुलदार ने राखी के भाई पर हमला किया, भाई को बचाने के लिए राखी उससे लिपट गई थी। आदमखोर गुलदार के लगातार हमले से लहूलुहान होने के बाद भी राखी ने भाई को नहीं छोड़ा। जिस पर राखी की मां के चिल्लाने की आवाज से गुलदार भाग गया था। राखी की इस बहादुरी के लिए राखी को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के तहत मार्कंडेय पुरस्कार से सम्मानित किया गया। भारतीय बाल कल्याण परिषद (आईसीसीडब्ल्यू ) की ओर से दिल्ली में आयोजित भव्य कार्यक्रम समारोह में राखी को यह पुरस्कार असम राइफल्स के ले. कर्नल रामेश्वर राय के करकमलों से दिया गया।
ऋषिकेश,28 जनवरी। व्यापार सभा ऋषिकेश भरत मंदिर झंडा चौक व्यापार सभा का शपथ ग्रहण समारोह आयोजित किया गया जिसमें  नगर निगम महापौर अनीता मंगाई जीने सभी पदाधिकारियों को शपथ दिलाई शपथ लेने वाले अध्यक्ष दीपक बंसल महासचिव ललित सक्सेना उपाध्यक्ष विशाल  तायल, नरेंद्र शर्मा  कोषाध्यक्ष हितेंद्र पवार, उपाध्यक्ष हरीश, जगदीश तिवारी योगेश कालरा मीडिया प्रभारी सचिन रस्तोगी दीपक, संजय नागपाल, बंटी  बंटी बोहरा शिवकुमार आदि ने पद एवं गोपनीयता की शपथ ली शपथ नगर निगम महापौर अनीता मंगवाई की अगुवाई में ली गई कार्यक्रम में  कार्यक्रम में थानाध्यक्ष रितेश साह कोतवाली ऋषिकेश को भी सम्मानित किया गया कार्यक्रम में उपस्थित उत्तराखंड राज्य मंत्री कृष्ण कुमार सिंघल राज्यमंत्री भगतराम कोठारी मंडी परिषद अध्यक्ष विनोद कुकरेती संरक्षक मंडल हर्षवर्धन शर्मा, विनय शर्मा,  विजय सारस्वत,  जितेंद्र अग्रवाल, जयेंद्र रमोला,  राहुल शर्मा, विजय लक्ष्मी शर्मा, पार्षद व्यापारी नेता श्रवण जैन, ऋषिकेश व्यापार सभा महासचिव ललित मोहन मिश्रा, भाजपा पूर्व मंडल अध्यक्ष चेतन चौहान , और महामंत्री पंकज शर्मा, राजू शर्मा , विनय सारस्वत आदि बड़ी संख्या में व्यापारी गण उपस्थित थे कार्यक्रम का संचालन कांग्रेस कमेटी के प्रदेश महासचिव ज्येन्दर रमोला जी ने किया।
ऋषिकेश, 27 जनवरी। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत जी ने कहा कि एम्स मेडिकल शिक्षा के साथ-साथ शीघ्र ही स्कूली शिक्षा के क्षेत्र में भी अपने कदम बढ़ाएगा, जिससे संस्थान में कार्यरत स्टाफ के बच्चों को कैम्पस में ही बेहतर शिक्षा उपलब्ध कराई जा सके। इसके लिए योजना तैयार की जा रही है। निदेशक एम्स ने बताया कि 200 बेड से शुरू हुए एम्स अस्पताल में वर्तमान में मरीजों को 960 बेड की सेवाएं प्रदान कर रहा है। निदेशक एम्स ने बताया कि संस्थान ने विश्वस्तरीय तकनीक और चिकित्सीय सुविधा के साथ इसे पांच हजार बेड का अस्पताल बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया है। यह तभी संभव होगा जब टीम भावना से कार्य किया जाए।
एम्स परिसर में आयोजित कार्यक्रम में निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत जी ने एम्स की उपलब्धियां गिनाई। उन्होंने सहकर्मियों से आह्वान किया कि टीम भावना से कार्य करते हुए एम्स संस्थान को न केवल देश वरन दुनिया में पहचान दिलाने को सामुहिक प्रयास करें। जब हम मिलकर सकारात्मक सोच और सेवाभाव से कार्य करते हैं तो हमें सर्वोच्च शिखर तक पहुंचने में कोई बाधा नहीं रोक सकती। उन्होंने एम्स के प्रशासनिक अधिकारियों, विभागाध्यक्षों, चिकित्सकों, फेकल्टी सदस्यों, नर्सिंग स्टाफ एम्स को विश्वस्तरीय संस्थान बनाने के लिए  टीम भावना से कार्य करें। उन्होंने सहकर्मियों से प्रत्येक मरीज से मृदुभाषी व्यवहार के साथ पेश आकर उसका बेहतर इलाज करना हमारी प्राथमिकता में शामिल होना चाहिए। निदेशक ने बताया कि एम्स में कार्यरत समस्त स्टाफ के बच्चों के अध्ययन के लिए कैंपस में ही स्कूल स्थापित किया जाएगा, इस योजना पर कार्य चल रहा है,स्कूल का संचालन और प्रबन्धन एम्स की फेकल्टी के हाथों होगा, और फेकल्टी सदस्य को ही स्कूल की प्रबन्धन कमेटी में शामिल किया जाएगा। उन्होंने बताया कि संस्थान का ऑडिटोरियम लगभग बनकर तैयार हो चुका है। निदेशक एम्स ने बताया कि संस्थान ने विश्वस्तरीय तकनीक और चिकित्सीय सुविधा के साथ इसे पांच हजार बेड का अस्पताल बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया है। यह तभी संभव होगा जब टीम भावना से कार्य किया जाए। उन्होंने बताया कि संस्थान अतिशीघ्र ई-बिलिंग की शुरुआत करने जा रहा है, जबकि न्यूरोलाॅजी और आईटी विभाग द्वारा ई-ऑफिस की शुरुआत पहले ही की जा चुकी है। उन्होंने संस्थान में आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत किए गए मरीजों के उपचार संंबंधी आंकड़ों को एक मिसाल करार दिया और बताया कि एम्स ने इस योजना के तहत अब तक 16 हजार से अधिक मरीजों का इलाज किया जा चुका है, यह देश के अन्य बड़े सरकारी संस्थानों के मुकाबले स्वयं में एक बड़ा रिकाॅर्ड है। इसके लिए उन्होंने संस्थान स्टाफ को बधाई दी। उन्होंने संस्थान में संचालित  प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोले जाने, कैशलैस कैंपस  जैसी सुविधाओं को भी जनहित में बताया। निदेशक ने बताया कि वर्तमान में एम्स में विश्वस्तरीय मानकों पर 54 ऑपरेशन थियेटर सफलतापूर्वक संचालित किए जा रहे हैं।
बताया कि उत्तराखंड के सीमांत क्षेत्रों से आपात स्थिति में मरीज को सीधे एयर एंबुलेंस के माध्यम से एम्स परिसर में लाया जा सकेगा। इसके लिए तीन हैलीकॉफ्टर की लैंडिंग की सुविधा के साथ हैलीपैड निर्माण कार्य अंतिम चरण में है।