ताज़ा ख़बर

ऋषिकेश 14 दिसंबर। 17 दिसंबर से देहरादून में आयोजित होने वाले पीठासीन अधिकारियों के सम्मेलन के दौरान देश भर से आए हुए सभी अतिथियों का ऋषिकेश में गंगा आरती के साथ-साथ दर्शनीय स्थलों का भी भ्रमण प्रस्तावित है। इस संबंध में आज उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रेमचंद अग्रवाल ने बैराज स्थित अपने कैंप कार्यालय में व्यवस्थाओं को लेकर संबंधित उच्च अधिकारियों के संग एक बैठक आहूत की।साथ ही विधानसभा अध्यक्ष ने अधिकारियों के साथ त्रिवेणी घाट पर आयोजित होने वाले कार्यक्रम के लिए मौके पर स्थलीय निरीक्षण भी किया।

बैठक के दौरान विधानसभा अध्यक्ष ने बताया कि 19 दिसंबर को सम्मेलन में प्रतिभाग करने वाले सभी अतिथियों को ऋषिकेश में गंगा आरती, योग प्रदर्शन, सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं भजन संध्या आदि में  प्रतिभाग कराया जाना प्रस्तावित है।साथ ही सभी अतिथियों का उस रात्रि भोज का आयोजन भी ऋषिकेश में ही किया जाना है।श्री अग्रवाल ने कहा कि 20 दिसंबर को कई अतिथियों द्वारा ऋषिकेश में पोस्ट कॉन्फ्रेंस भ्रमण भी किया जाना है। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि  इन सभी कार्यक्रमों के दौरान अथितियों की उचित सुरक्षा व्यवस्था एवं अन्य इंतजाम किए जाने जरूरी है। अग्रवाल ने अधिकारियों से अतिथियों के ऋषिकेश में प्रवेश करने एवं विभिन्न गतिविधियों में प्रतिभाग करने के लिए रूट मैप पर भी चर्चा की।उन्होंने अधिकारियों से कहा कि रूट मैप इस प्रकार होना चाहिए कि अतिथियों को ट्रैफिक का सामना ना करना पड़े एवं किसी भी प्रकार से यातायात में व्यवधान न हो। अग्रवाल ने  स्थानीय जनता को बाधा उत्पन्न ना हो इसका पूर्ण रुप से ध्यान रखने की भी बात कही। श्री अग्रवाल ने नगर निगम  के अधिकारियों से स्वच्छता  का विशेष ध्यान रखने की बात कही।श्री अग्रवाल ने आयोजन स्थल त्रिवेणी घाट पर लाइट, बिजली, पानी, पार्किंग आदि की व्यवस्थाओं को सुनिश्चित करने के लिए अधिकारियों को जरूरी निर्देश  दिए।श्री अग्रवाल ने सभी अधिकारियों से उत्तराखंड की अतिथि देवो भव: की परंपराओं का निर्वहन करने की बात कही।

इस दौरान श्री अग्रवाल ने त्रिवेणी घाट पर पहुंचकर गंगा आरती एवं अन्य गतिविधियों की तैयारी के लिए अधिकारियों से चर्चा वार्ता की।साथ ही गंगा महासभा के पदाधिकारियों से गंगा आरती के दौरान अतिथियों बैठने की व्यवस्था को लेकर चर्चा की।अवगत करा दें कि देश भर से आए हुए सभी अतिथियों के रात्रि भोज का आयोजन भी पतितपावनी मॉ गंगा के तट पर त्रिवेणी घाट पर ही किया जाना है।

विधानसभा अध्यक्ष ने इस बीच पत्रकारों से बातचीत के दौरान बताया कि  सम्मेलन की अध्यक्षता लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला द्वारा की जाएगी।श्री अग्रवाल ने बताया कि अभी तक राज्यसभा के उपसभापति, 21 राज्यों के विधानसभा अध्यक्षों, 5 राज्यों के विधान परिषद के सभापति, 27 राज्यों के विधानसभा उपाध्यक्ष, 2 राज्यों के विधान परिषद के उपसभापति एवं 25 राज्यों के विधानसभा सचिवों की सम्मेलन में प्रतिभाग करने की सहमति प्राप्त हो चुकी है। अग्रवाल ने बताया कि कई राज्यों में विधानसभा सत्र चलने एवं चुनाव होने के कारण  वहाँ के विधानसभा अध्यक्षों द्वारा  सम्मेलन में उपस्थित होने की असहमति दी गई है।उन्होंने बताया की  सभी राज्यों के विधान सभा अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, विधान परिषद के सभापति एवं उपसभापति के साथ उत्तराखंड विधानसभा के एक-एक समन्वयक अधिकारी की ड्यूटी लगा दी गई है। विधानसभा भवन में एक कंट्रोल रूम बनाया गया है साथ ही एक कंट्रोल रूम आयोजन स्थल रीजेंटा होटल में भी बनाया जाएगा।

इस अवसर पर पत्रकारों से बातचीत के दौरान विधानसभा अध्यक्ष ने बताया कि 17 दिसंबर को सभी राज्यों के विधानसभाओं के सचिवों का सम्मेलन आयोजित होगा, 18 दिसंबर को पीठासीन अधिकारियों के सम्मेलन का विधिवत उद्घाटन होगा इस दौरान उत्तराखंड राज्य के राज्यपाल महोदय, मुख्यमंत्री जी, मंत्री गण एवं समस्त विधायक गण मौजूद रहेंगे।

इस अवसर पर जिलाधिकारी देहरादून रविशंकर, एमडीडीए के वीसी आशीष श्रीवास्तव, पुलिस अधीक्षक ग्रामीण परमेन्द्र डोभाल, सचिव एमडीडीए  सेमवाल जी,उपजिलाधिकारी प्रेम लाल, अधिशासी अभियंता यूपीसीएल डी पी सिंह, अधिशासी अभियंता सिंचाई डी के सिंह, लोक निर्माण विभाग के सहायक अभियंता भारद्वाज जी, तहसीलदार रेखा आर्य ,नगर निगम नरेंद्र सिंह, कोतवाल ऋषिकेश रितेश शाह, लोक निर्माण विभाग के सहायक अभियंता कैलखुरा जी, सिंचाई विभाग के एसडीओ अनुभव नौटियाल सहित कई अन्य अधिकारीगण मौजूद थे।
ऋषिकेश,14 दिसंबर।गढ़वाल महासभा द्वारा आज दून रोड स्तिथ बजरंग मुनि शोध संस्थान, ऋषिकेश के प्रदेश कार्यालय में राष्ट्रीय स्तर प्रतियोगिता से लोटे खिलाडियों का सम्मान व स्वागत किया गया ।
महासभा के प्रदेशाध्यक्ष डॉ राजे नेगी ने बताया कि ऋषिकेश से चयनित खिलाडियों ने यूथ गेम्स फैडरेशन आफ इंडिया के बैनर तले 8 दिसम्बर से 10 दिसंबर तक गोवा में आयोजित हुई नेशनल प्रतियोगिता में ऋषिकेश के युवराज और नितिन चौधरी ने क्रिकेट टीम में स्वर्ण पदक। कबड्डी में सिल्वर पदक, एव फुटबॉल में सुमित चौधरी, जितेन गुप्ता ने सिल्वर पदक जीता।फुटबॉल खिलाड़ी एवं कोच अभिषेक रांगड़ ने बताया कि ऋषिकेश के 10 खिलाड़ियों का चयन गोवा की प्रतियोगीता में उत्तराखण्ड की विभिन्न टीमो हेतु हुआ था।सभी खिलाड़ियों को विचारक बजरंग मुनि एवं आचार्य पंकज ने फूलमाला पहनाकर एवं स्मृति चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया।इस मौके पर उत्तराखण्ड स्पोर्ट्स एशोसिएशन के प्रदेशाध्यक्ष आर सी भट्ट,महासचिव दिनेश पैन्यूली,कोच सूरज कुमार,राजेश साहनी,आचार्य द्वारिका भट्ट, उत्तम सिंह असवाल,योगाचार्य अंकित नैथानी,शशि गौड़,दीपक जायसवाल उपस्तिथ थे।
   ऋषिकेश,14 दिसंबर।  राजकीय इंटरमीडिएट कॉलेज आईडीपीएल के सभागार में विगत 2 दिवस से चल रहे 15 विद्यालयों के विद्यालय प्रबंधन समिति के अध्यक्ष सचिव एवं सदस्यों का प्रशिक्षण का आज नोडल अधिकारी ओ पी जोशी ने समापन किया इस अवसर पर उन्होंने कहा कि इस प्रकार के प्रशिक्षण से समुदाय की विद्यालय के विकास में सहभागिता सुनिश्चित होती है और उसका फायदा पूरे समाज सहित छात्र-छात्राओं को मिलता है इसलिए सभी विद्यालयों को चाहिए कि प्रधानाचार्य प्रधानाध्यापक एवं समुदाय के सदस्यों को इस प्रकार के प्रशिक्षण में बढ़-चढ़कर भाग लेना चाहिए नोडल अधिकारी ने जिले से नियुक्त उच्च शिक्षित प्रशिक्षक डॉक्टर चंडी प्रसाद घिल्डियाल के प्रशिक्षण कौशल की प्रशंसा करते हुए उनका स्वागत किया
    प्रशिक्षण में डॉक्टर घिल्डियाल का सहयोग कर रहे विद्यालय के प्रवक्ता संजू प्रसाद ध्यानी ने बताया कि दो दिवस तक प्रशिक्षण के लिए उच्चाधिकारियों द्वारा नियुक्त डॉक्टर चंडी प्रसाद घिल्डियाल ने कुशल प्रशिक्षक की भूमिका निभाते हुए प्रधानाचार्य  प्रधानाध्यापक एवं प्रबंधन समिति के सदस्यों को विद्यालय संचालन के लिए शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 बाल अधिकारों की भूमिका विद्यालय प्रबंधन समिति एवं विकास समिति का गठन मध्यान्ह भोजन योजना गुणवत्ता परक शिक्षा समावेशी शिक्षा आपदा प्रबंधन तथा विशेष रूप से  सरकारी विद्यालयों में छात्रों की प्रवेश की संख्या बढ़ाने के लिए किस प्रकार से शिक्षण हो विद्यालय प्रशासन किस प्रकार के छात्र हित के कार्य करें अनुशासन प्रार्थना सहित विद्यालयों से जुड़े हुए सभी विषयों पर प्रशिक्षण दिया
 दो दिवसीय प्रशिक्षण में प्रशिक्षण लेने वालों में राजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय पशुलोक के प्रधानाचार्य अनूप कुमार जोशी राजकीय प्राथमिक विद्यालय बीरपुर खुर्द की प्रधानाध्यापिका अनुराधा सहित लक्ष्मी रतूड़ी मधुबाला डोभाल संतोषी भट्ट चांदनी सिंह सुचित्रा सिंह शीतल शर्मा सतीश चंद्र मीना देवी आर पी वर्मा सहित बड़ी संख्या में शिक्षक कर्मचारी एवं प्रबंधन समिति के सदस्य उपस्थित थे
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में शनिवार को नगर निगम ऋषिकेश की मेयर अनीता ममगाईं व आईबीसीसी की प्रमुख प्रोफेसर बीना रवि ने संयुक्तरूप से ओपीडी रजिस्ट्रेशन काउंटर का शुभारंभ किया। इसके साथ ही शनिवार से संस्थान में ऋषिकेश नगर क्षेत्र और उत्तराखंड के निवासियों के लिए दो अलग से रजिस्ट्रेशन काउंटर शुरू हो गए हैं।                                                                                                                 इस अवसर पर मेयर अनीता ममगाईं ने कहा कि एम्स संस्थान में स्वास्थ्य परीक्षण एवं उपचार के लिए आने वाले नगर और राज्यवासियों को सहूलियत मिलेगी और उन्हें मरीजों की अत्यधिक भीड़भाड़ के कारण ओपीडी रजिस्ट्रेशन के लिए घटों लंबी लाइनों में इंतजार नहीं करना पड़ेगा। उन्होंने एम्स संस्थान द्वारा उत्तराखंडवासियों को दी गई इस खास सुविधा के लिए निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत का आभार जताया। इस अवसर पर मेयर ने एम्स संस्थान में स्थापित इंटिग्रेटेड ब्रेस्ट कैंसर क्लिनिक का दौरा किया और उसकी कार्यप्रणाली की जानकारी दी।                                                                                    इस दौरान आईबीसीसी प्रमुख प्रो. बीना रवि ने उन्हें बताया कि इंटिग्रेटेड ब्रेस्ट कैंसर क्लिनिक में हमेशा मरीजों की सेवा के लिए आधा दर्जन चिकित्सकों की टीम कार्य करती है, स्पेशल क्लिनिक में एक ही स्थान पर महिलाओं में होने वाले स्तन कैंसर के मामलों की संपूर्ण जांच की सुविधा उपलब्ध है,जिससे महिला रोगियों को परीक्षण व उपचार में दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ता। प्रो. बीना रवि ने बताया कि संस्थान में ब्रेस्ट कैंसर ​क्लिनिक की स्थापना से अब तक करीब एक साल की समयावधि में करीब पांच सौ महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर की पहचान कर उन्हें नया जीवन दिया जा चुका है,जबकि लगभग पैंतीस सौ महिलाओं में इस रोग की जांच व पहचान के बाद उनका उपचार किया जा रहा है। ​उन्होंने बताया ​कि इसके तहत विभिन्न स्थानों पर जनजागरुकता के लिए स्वास्थ्य परीक्षण शिविर का आयोजन भी किया जा रहा है,जिससे महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर के प्रति जागरुक किया जा सके।  इस अवसर पर मेडिकल सुपरिटेंडेंट डा. ब्रह्मप्रकाश, डा. अनुभा अग्रवाल, वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल आदि मौजूद थे।
देहरादून। राजधानी दून में हुई आठ चोरियों का खुलासा करते हुए पुलिस ने कुख्यात शहजाद गैंग के दो शातिरों को लाखों के जेवरात व घटना में प्रयुक्त बाइक, मोबाइल व घातक हथियारों सहित गिरफ्तार कर लिया है। गैंग का सरगना शहजाद फरार है जिसकी तलाश में दबिश दी जा रही है।
एस.पी.सिटी श्वेता चैबे द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया कि विगत कई माह से अज्ञात चोरों द्वारा विभिन्न थाना क्षेत्रों में बंद घरों को निशाना बनाते हुए चोरी की कई घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा था। चोरी की इन घटनाओं के खुलासे हेतू एक विशेष पुलिस टीम का गठन किया गया। चोरी की इन घटनाओं की जांच में जुटी पुलिस टीम को पता चला कि इन चोरियों को  शातिर नकबजन  शहजाद गैंग के सदस्यों द्वारा अंजाम दिया गया है। इस पर पुलिस ने अपनी जांच में तेजी दिखाते हुए बीती रात काली मन्दिर बसंत विहार के समीप से दो संदिग्धों को हिरासत में ले लिया। तलाशी के दौरान पुलिस ने उनके पास से बाइक,  पिस्टल व रिवाल्वर मय कारतूस बरामद किया। थाने लाकर की गयी पूछताछ में उन्होने अपना नाम शमीम पुत्र इलियास व दानिश पुत्र सलीम निवासी रूड़की बताया। बताया कि वह कुख्यात नकबजन शहजाद गैंग के सदस्य है तथा उन्होने शहजाद के साथ मिलकर राजधानी दून में आठ चोरी की घटनाओं को अंजाम दिया है। पुलिस द्वारा देर रात ही शहर में हुई इन चोरियों से सम्बन्धित लाखों की ज्वैलरी व कैश आरोपियों की निशानदेही पर बरामद कर लिया गया है। पुलिस ने जिन चोरियों का खुलासा किया है उनमें बसंत विहार से पांच, शहर कोतवाली क्षेत्र की दो व थाना पटेलनगर की एक चोरी शामिल है।
ऋषिकेश, 14 दिसम्बर। परमार्थ निकेतन में उत्तराखण्ड की राज्यपाल महामहिम बेबी रानी मौर्य जी और भारतीय पाश्र्वगायक श्री सुरेेश वाडेकर जी पधारे। परमार्थ गंगा तट पर आयोजित सांस्कृतिक संध्या का उद्घाटन उत्तराखण्ड की राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य जी, परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी, जीवा की अन्तर्राष्ट्रीय महासचिव साध्वी भगवती सरस्वती जी ने दीप प्रज्जवलित कर किया।
स्टार कलाकार बालीवुड के पाश्र्वगायक श्री सुरेश वाड़ेकर जी ने परमार्थ निकेतन में दर्शकों का खूब मनोरंजन किया। उनके संगीत पर विदेशियों ने भी खूब नृत्य किया।
 उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती बेेबी रानी मौर्य अपने परिवार के साथ परमार्थ निकेतन पधारी उन्होने माँ गंगा की पूजा अर्चना की। साथ ही स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी के पावन सान्निध्य और आशीर्वाद से उन्होने अपने पोते का नामकरण संस्कार किया। बच्चे का नाम शिवांग रखा गया।
 स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि नाम का व्यक्ति के जीवन पर बहुत गहरा असर पड़ता है। बच्चे का जो नाम होता है उन गुणों की अनुभूति उसे होती रहती है। नामकरण संस्कार के विषय में स्मृति संग्रह में लिखा है
’आयुर्वर्चोअभिवृध्दिश्च सिध्दिव्रर्यवहृतेस्तथा। नामकर्मफलं त्वेतत् समुद्दिष्टं मनीषिभिः।’
अर्थात नामकरण संस्कार से आयु तथा तेज की वृद्धि होती है और लौकिक व्यवहार में नाम की प्रसिद्धि से व्यक्ति का अलग अस्तित्व बनता है।
 स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज और महामहिम बेबी रानी मौर्य जी की महिला सशक्तिकरण, एकल उपयोग प्लास्टिक का उपयोग न करने, पर्यावरण और हिमालय संरक्षण के विषय में विस्तृत चर्चा हुई।
 स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने कहा कि उत्तराखण्ड जैव विविधता से समृ़द्ध राज्य है। यह राज्य प्रकृति की जींवतता को दर्शाता है तथा सांस्कृतिक और आध्यात्मिक दृष्टि से भी समृद्ध है। हिमालय और गंगा के सौन्दर्य और पवित्रता को बनाये रखने के लिये एकल उपयोग प्लास्टिक का उपयोग बंद किया जाना चाहिये।
महिला सशक्तिकरण पर चर्चा करते हुये स्वामी जी ने कहा कि भारत में महिलाओं की भूमिका बदल रही है वे अपने अधिकारों और स्वतंत्रता के विषय में जागरूक हो रही है परन्तु कुछ क्षेत्रों में अभी भी इस ओर कार्य करने की जरूरत है। वर्तमान समय में हो रहे पर्यावरणीय प्रदूषण के कारण स्वास्थ्य और जीवन स्तर पर पड़ने वाले विपरीत प्रभाव पर चिंता व्यक्त करते हुये कहा कि हमारे राज्य को स्वच्छ और प्रदूषण मुक्त बनाने के लिये चरणबद्ध और सतत विकास की आवश्यकता है, उसमें भी अगर विकास पर्यावरण संरक्षण के जरिये प्राप्त किया जाये तो बेहतर होगा।
स्वामी जी ने कहा कि संगीत एक ऐसी विधा है जिसके तार हृदय से जुड़ते है। सभी संगीतज्ञों का आहवान करते हुये स्वामी जी ने कहा कि संगीत के मंच से पर्यावरण और जल संरक्षण का संदेश प्रसारित किया जाये तो हमें इसके प्रभावी परिणाम प्राप्त हो सकते है।
 स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने पाश्र्वगायक श्री सुरेेश वाड़ेकर जी, महामहिम श्रीमती बेबी रानी मौर्य जी को पर्यावरण का प्रतीक रूद्राक्ष का पौधा भेंट किया। सभी ने परमार्थ गंगा तट पर होने वाले विश्व शान्ति हवन में आहुति प्रदान कर गंगा आरती में सहभाग किया।
no image
हैदराबाद। तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में महिला वेटनरी डॉक्टर से गैंगरेप के बाद हत्या और फिर लाश को जला देने की घटना से देश भर में खलबली मच गई। अब इस घटना के बाद आंध्र प्रदेश में एक और रेप-मर्डर केस की फाइल 12 साल बाद खुलने वाली है। सीबीआई इस केस की फिर से जांच करेगी। इस मामले में पीड़िता की बॉडी की फिर से पॉस्टमॉर्टम  करने की तैयारी चल रही है। यह घटना साल 2007 की है। विजयवाड़ा में 19 साल की फार्मेसी की एक स्टूडेंट का रेप के बाद मर्डर कर दिया गया था। उसकी बॉडी बाथरूम में मिली थी, जहां वो खून में लिपटी थी और उसकी बॉडी पर घाव के कई निशान थे। घटनास्थल से एक चिट्ठी भी मिली थी। इसमें लिखा था, लड़की का रेप और मर्डर इसलिए किया गया क्योंकि उसने प्यार को ठुकरा दिया था। घटना के बाद स्टूडेंट्स, महिला और समाजिक संगठनों ने पीड़िता के परिवार के लिए न्याय की मांग की थी। जांच के बाद 17 अगस्त 2008 को पुलिस ने सत्यम बाबू नाम के एक आरोपी को गिरफ्तार किया। उस वक्त पुलिस ने कहा था कि बाबू इस तरह की और घटनाओं में शामिल था और उसने गुनाह कबूल भी कर लिया है।
14 साल की सजाआरोपी सत्यम बाबू के रिश्तेदारों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया कि पुलिस असली गुनहगार को बचाने की कोशिश कर रही है। इन सबने ये भी दावा किया कि सत्यम बाबू चल फिर नहीं सकते हैं और उन्हें न्यूरो संबंधित बीमारी भी है। इसके बावजूद विजयवाड़ा की कोर्ट ने सत्यम बाबू को 14 साल की सजा सुना दी। सत्यम बाबू ने इस मामले में हाईकोर्ट में अपील की. 31 मार्च 2017 को हाईकोर्ट ने उसके खिलाफ लगाए गए सारे आरोपों को खारिज कर दिया। इसके अलावा उसे 8 साल जेल में रहने के चलते 1 लाख रुपये का मुआवाजा भी दिया गया। सत्यम बाबू के जेल से बाहर आने के बाद हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की गई. 29 नवंबर 2018 को आंध्रप्रदेश हाईकोर्ट ने इस मामले में सीबीआई को फिर नए सीरे से जांच करने को कहा। अब सीबीआई कब्र से बॉडी निकाल कर फिर से पोस्टमॉर्टम करेगी. इस मामले में स्थानीय पुलिस को भी सहयोग करने को कहा गया है।